ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
“Yatra”

“Yatra”

पेड़ों की गुफा में,
आधी छांव आधी धुप से,
गुजरता वो बंजारा,
कभी तो कंही पहुंचेगा…

Leave a Reply

Close Menu
%d bloggers like this: