Tag: #tree #poem #kavita #hindi #buniyad

“जड़े”

उसने ज़मीन साफ़ कर खुद के माकन और दीवारे बनाली, बिना सोचे ये की एक जान अब भी जमी है उसी ज़मीन में, उस जान ने भी ज़िंदा रहने अपनी…
Read More