Tag: #poem #hindi #life

“झूलता वक़्त”

अक्सर देखा है वक़्त को झूलते हुए मैंने, कभी दीवार पर तो कभी धागों का सहारा लिए बाजार में, पर समझ नहीं आता की जो झूल रहा है वो वक़्त…
Read More

“खिलोने वाला”

काला था वो मगर, रंग बेच रहा था, नंगे पांव में छाले थे उसके मगर, चकरी वाले पंख सोप रहा था, नकाब भी थे उसके पास मगर, चेहरे पर चढ़ा…
Read More