ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

बीच की दीवार – कविता

दो बच्चे माटी में खेल रहे थे, एक ने मिट्टी का मंदिर  तो दूसरे ने मस्जिद बनाया , फिर दोनो के बीच में  एक दीवार भी उठाया,  एक ने श्री राम का…

Continue Reading
Close Menu