ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

“पापा (Father)”

नीला फ़्रॉक बसता पहने, मैं रोती-रोती  घर पहुँची, घुटना छिल चुका था मेरा, दरवाज़ा खोल आवाज़ मैंने दी, पापा-पापा देखो मैं गिर पड़ी, प्रत्युत्तर में ख़ामोशी थी, खारी बूँदे अब…

Continue Reading
Close Menu