ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

“खिलोने वाला”

काला था वो मगर, रंग बेच रहा था, नंगे पांव में छाले थे उसके मगर, चकरी वाले पंख सोप रहा था, नकाब भी थे उसके पास मगर, चेहरे पर चढ़ा…

Continue Reading

“I Am Human”

"एक दिल है मेरे पास तू रख ले, मैं इंसान हूँ दिल की नहीं दिमाग की सुनता हूँ," ऐसा एक इंसान ने एक कुत्ते से कहा...

Continue Reading

“डर”

"डर" लगता है ना, मुझे भी लगता था, पर मैं उसे निगल गया, डर अब मुझसे डरता है, आपने सुकून के लिए अब वो, मेरी एक फूंक के लिए तड़पता…

Continue Reading

” पहचान पाये “

मकानों को टुटा बिखरा देखा है ? खून के धब्बों से रंगी ज़मीन? खम्बों पर लटकते अध नंगे शरीर? देखा ज़रूर होगा, कई किस्से होते हैं ऐसे, मज़हब के नाम…

Continue Reading

“जड़े”

उसने 'ज़मीन' साफ़ कर खुद के माकन और दीवारे बनाली, बिना सोचे ये की एक जान अब भी जमी है उसी ज़मीन में, उस जान ने भी ज़िंदा रहने अपनी…

Continue Reading
Close Menu