ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

“पापा (Father)”

नीला फ़्रॉक बसता पहने, मैं रोती-रोती  घर पहुँची, घुटना छिल चुका था मेरा, दरवाज़ा खोल आवाज़ मैंने दी, पापा-पापा देखो मैं गिर पड़ी, प्रत्युत्तर में ख़ामोशी थी, खारी बूँदे अब…

Continue Reading

“Buri Adaat”

ना जाने क्यों इन इंसानी नज़दीकियों से, जल्द ऊब जाता हूँ मैं, शायद यह आदत बुरी है मेरी, यह जान कर भी मैं, इसे बदलना नहीं चाहता, शायद खुदा मैं…

Continue Reading

“कठपुतलिया”

कुछ कठपुतलिया थी वँहा, रंगीन कपड़ों से सजी थी, मगर किसी की उँगलियों से वो बंधी थी, कुछ बेजान सी थी, तो कुछ सांस ले रही थी...

Continue Reading
“झूलता वक़्त”
Shailism

“झूलता वक़्त”

अक्सर देखा है "वक़्त" को झूलते हुए मैंने, कभी दीवार पर तो कभी धागों का सहारा लिए बाजार में, पर समझ नहीं आता की जो झूल रहा है वो वक़्त…

Continue Reading

“Yatra”

पेड़ों की गुफा में, आधी छांव आधी धुप से, गुजरता वो बंजारा, कभी तो कंही पहुंचेगा...

Continue Reading

“खिलोने वाला”

काला था वो मगर, रंग बेच रहा था, नंगे पांव में छाले थे उसके मगर, चकरी वाले पंख सोप रहा था, नकाब भी थे उसके पास मगर, चेहरे पर चढ़ा…

Continue Reading
Close Menu