Shailism Revolutionary soul

Featured Content

“AN OLD MAN UNDER A MANGO TREE”

My pottery teacher turned to me smacking a clump of cold clay into my hesitant hands.   “Make something with this," she said.   “What! But today is my first day!" I implored.…
Read More

“Khawish”

उसके बाद तुम्हारी ख्वाहिशे पूरी करंगे, वो अधूरे सपने और टूटे तारों को मिलके जोड़ेंगे, फिर एक नया आसमान बनायंगे कुछ हमारे तो कुछ नारंगी नील रंगो से उसे भरेंगे,…
Read More

“बुरी आदत”

इस बार कुछ अलग हुआ, मेरी आदत ने मुझे छोड़ दिया, वो आदत तुम थी... बड़ा इठलाई थी ना मुझे छोड़ते वक़्त, मैंने भी कम ना था, मैंने तुम्हे बुरी…
Read More

“Intazar Raam Ka”

नन्हे राम ने चौखट पर दीया रखती हुई अपनी माँ से पूछा ” माँ दिवाली क्यों मानते हैं?” माँ ने मुस्कुराते हुए कहा ” आज के दिन राम जी आपने…
Read More

“Intolerance At The Court Of The King Of Lalbagh”

[video width="400" height="220" mp4="http://shailism.com/wp-content/uploads/2016/12/14381812_1781113438793670_1610381159_n_converted_c-2.mp4"][/video] Why? Why is all this being tolerated in the court of King of Lalbagh? Why are these so called soldiers of the Ganesha being allowed to…
Read More