Shailism Revolutionary soul

Featured Content

“तुम्हारे हिस्से के तारें”

अगर आज धुंध कम होगी तो, तुम्हे आपने हिस्से के आसमान के, कुछ सितारे भेजूंगा... जानता हूँ तुम्हारे हिस्से के तारें, काले बादलों की कैद मैं हैं...
Read More

“इंतज़ार”

"आपके बेटे का कोई खत नहीं आया माँ जी ", डेस्क के पीछे बैठे एक आदमी ने कहा. यह सुन वो अपनी मोतीया बिंद वाली नज़रों को निचे किये, लकड़ी…
Read More

“Racing Up With The First Rays Of The Sun”

After a whole night fighting with my haunted thoughts, I decided to go for a ride. The sun was still asleep. The moon was tired and the stars were shutting…
Read More

“चार नन्ही ऑंखें और एक जंगल”

चार दीवारों की एक रंगीन खिड़की से, अँधेरे में बंद चार नन्ही ऑंखें झाँक रही थी, खिड़की के पास प्लास्टिक के कुछ फूल झूल रहे थे, कुछ मुरझाये हुए थे,…
Read More

“खामोशियाँ”

दोनों काली मलमल ओढ़े, एक पहाड़ की चोटी पर, चुपचाप से बैठे थे... शायद एक दूसरे की, ख़ामोशी बाँट रहे थे... एक की ख़ामोशी थक चुके ज़ख्मों की थी, तो…
Read More

“कहानी एक बंजारे और चांदनी की”

वो चांदनी से प्यार करता था, जानते हुए की दाग से लिपटे चाँद की हैं वो, काले बादल दरमियान दोनों के रोके पहाड़ों से हैं खड़े, जानते हुए की तारों…
Read More

“बारिश”

घर से निकलते ही, यादों की जोरों से बारिश होने लगी, मैंने छतरी साथ नहीं राखी थी, पूरा ही भीग गया, कुछ बुँदे मखमली चादर ओढ़े हुए थे, तो कुछ…
Read More

“तड़प”

वो जो तड़प रही है, रूह है तेरी, तू जिस्म को, सहला रहा है, नादान है क्या?
Read More