Shailism Revolutionary soul

Featured Content

“चार नन्ही ऑंखें और एक जंगल”

चार दीवारों की एक रंगीन खिड़की से, अँधेरे में बंद चार नन्ही ऑंखें झाँक रही थी, खिड़की के पास प्लास्टिक के कुछ फूल झूल रहे थे, कुछ मुरझाये हुए थे,…
Read More

“खामोशियाँ”

दोनों काली मलमल ओढ़े, एक पहाड़ की चोटी पर, चुपचाप से बैठे थे... शायद एक दूसरे की, ख़ामोशी बाँट रहे थे... एक की ख़ामोशी थक चुके ज़ख्मों की थी, तो…
Read More

“कहानी एक बंजारे और चांदनी की”

वो चांदनी से प्यार करता था, जानते हुए की दाग से लिपटे चाँद की हैं वो, काले बादल दरमियान दोनों के रोके पहाड़ों से हैं खड़े, जानते हुए की तारों…
Read More

“बारिश”

घर से निकलते ही, यादों की जोरों से बारिश होने लगी, मैंने छतरी साथ नहीं राखी थी, पूरा ही भीग गया, कुछ बुँदे मखमली चादर ओढ़े हुए थे, तो कुछ…
Read More

“तड़प”

वो जो तड़प रही है, रूह है तेरी, तू जिस्म को, सहला रहा है, नादान है क्या?
Read More

The Present Which Is Tied With The Past And Future

"The Present, Which Is Tied With The Past And Future." The relationship of time and money is something that I struggle to understand. I have often heard many people say…
Read More

“Live-Love-Peace”

Can you seize life? Can you snatch it from death? No…!! Then why do you give significance to those moments that serve only to destroy the essence of your life?…
Read More

“SAY NO TO PLASTICS”

“By 2050, 99% of seabirds will have plastic in them, Hardesty’s computer model forecasts.” "SAY NO TO PLASTICS" Recycled Sculpture (5 ft Tall), My contribution for "World Environment Day", by…
Read More