ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

तीन लघु-कथा (Dedicated To Indian Soldiers And Their Families)

1.चुप्पी "कल रात लैंडस्लाइडिंग होने की वजह से यँहा तक आने वाला एक मात्र रास्ता बंद हो चूका है। मौसम को देखते हुए तीन-चार दिनों में रास्ता खुल जाने की सम्भावना…

Continue Reading

सूर्यपुत्र कर्ण का अंतिम दान – महाभारत

“अरे !! कोई दानवीर इस धरती पर बचा है क्या ?” कपकपाता हुआ एक स्वर शांत वातावरण को चिरता हुआ कँही से आया। सबने एक दम से मुख मोड़ा। एक…

Continue Reading

“इश्क़ की मिश्री” पाँच कविताएँ – Shailism

1. "बारिश"  घर से निकलते ही, यादों की जोरों से बारिश होने लगी, छतरी मैंने साथ नहीं रखी थी, पूरा ही भीग गया, कुछ बूँदे मखमली चादर ओढ़े हुई थी  ,…

Continue Reading

कलियुग के अंत के बाद संसार और मनुष्य का क्या होगा ?- श्री हनुमान की कथा

शास्त्रों के अनुसार चार युग होते हैं। जिसमें अंतिम युग कलियुग है और कलियुग की समाप्ति के बाद फिर से सतयुग का आगमन होता है।मतलब संसार की समाप्ति होगी और…

Continue Reading
श्री गणेश का वाहन मूषक क्यों है? (गणेश चतुर्थी)
http://www.pictorem.com/8799/GANAPATHY%20MURAL.html

श्री गणेश का वाहन मूषक क्यों है? (गणेश चतुर्थी)

संसार में शायद ही ऐसा कोई शिव मंदिर होगा जँहा नंदी जो कि शिव के वाहन भी है और उनके गण के अध्यक्ष भी की मूर्ति ना हो। उसी तरह…

Continue Reading
दानवीर-लघु कथा
Painting by R Aziz

दानवीर-लघु कथा

लघु कथा by Shailism  भरी धूप का वक़्त था। एक कच्ची सड़क के किनारे एक पेड़ की छांव में एक आदमी बैठा था। उसने सर पर एक मटमेला कपड़ा बाँध…

Continue Reading
Close Menu