“कठपुतलिया”

कुछ कठपुतलिया थी वँहा,
रंगीन कपड़ों से सजी थी,
मगर किसी की उँगलियों से वो बंधी थी,
कुछ बेजान सी थी, तो कुछ सांस ले रही थी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *