ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
इला – एक नारी की अनक़ही कहानी
Painting by Raja Ravi varma

इला – एक नारी की अनक़ही कहानी

लघु कथा  क्षितिज पर सूर्य देव की पहली किरण फूट चुकी थी। आधी सुख चुकी गोदावरी में खड़ी इला आँखे बंद कर उनको जल चढ़ा रही थी। सूरज की किरणे…

Continue Reading
शरीफ़ आदमी – हिंदी लघु कथा
Painting by Picasso

शरीफ़ आदमी – हिंदी लघु कथा

लघु कथा  “आप तो उन गलियों को पहचानते है। रोज़ का आना जाना है।” “हाँ बहुत अच्छी तरह से।” अकड़ते हुए कहा। “कहाँ-कहाँ का माल है वँहा पर?” “बंगाल, बिहार, पंजाब…

Continue Reading

तीन लघु-कथा (Dedicated To Indian Soldiers And Their Families)

1.चुप्पी "कल रात लैंडस्लाइडिंग होने की वजह से यँहा तक आने वाला एक मात्र रास्ता बंद हो चूका है। मौसम को देखते हुए तीन-चार दिनों में रास्ता खुल जाने की सम्भावना…

Continue Reading
दानवीर-लघु कथा
Painting by R Aziz

दानवीर-लघु कथा

लघु कथा by Shailism  भरी धूप का वक़्त था। एक कच्ची सड़क के किनारे एक पेड़ की छांव में एक आदमी बैठा था। उसने सर पर एक मटमेला कपड़ा बाँध…

Continue Reading
ख़त
Unwind By Arti Chauhan

ख़त

"आपके बेटे का कोई ख़त नहीं आया माँ जी "डेस्क के पीछे बैठे एक आदमी ने कहा।" यह सुन उसकी मोतिया बिंद वाली नज़र झुक जाती है।और वह लकड़ी के…

Continue Reading

इंतज़ार राम का

नन्हे राम ने चौखट पर दिया रखती हुई अपनी माँ से पूछा ”माँ दिवाली क्यों मनाते हैं ?” माँ ने मुस्कुराते हुए कहा ”आज के दिन राम अपने घर लौटे…

Continue Reading

चुप्पी

"कल रात लैंडस्लाइडिंग होने की वजह से यँहा तक आने वाला एक मात्र रास्ता बंद हो चूका है। मौसम को देखते हुए तीन-चार दिनों में रास्ता खुल जाने की सम्भावना है।…

Continue Reading
Close Menu