ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
मंदिर-मस्जिद और रेत का मकान
By Arshad Mohsin

मंदिर-मस्जिद और रेत का मकान

* रेत का मकान वो बच्चा रेत का मकान बनाता  समुन्दर आता और उसे तोड़ जाता,  यह शिलशिला यूँही चलता रहा  मकान बनता और बिगड़ता रहा , मगर कुछ वक़्त बाद बच्चा…

Continue Reading

बीच की दीवार – कविता

दो बच्चे माटी में खेल रहे थे, एक ने मिट्टी का मंदिर  तो दूसरे ने मस्जिद बनाया , फिर दोनो के बीच में  एक दीवार भी उठाया,  एक ने श्री राम का…

Continue Reading

वो अब बड़ी हो चुकी है-कविता

वो मोहल्ले की गलियाँ  जिन्हें अपने नन्हें क़दम से नापा करती थी,  वो मकान की दीवारें  जिस पर कलम से लकीरें खिंचा करती थी,  वो माँ की बरनियाँ जिससे मुरब्बा…

Continue Reading

वो सुनहरे अल्फ़ाज़ों की नज़्म बन गई – कविताएँ

1.पहला ख़याल  मैंने मोहब्बत की है  तुम्हें पाने की ज़िद नहीं, तुम मेरी तख़्लीक़ का  पहला ख़याल हो  कोई आदत नहीं, दूरियों से ख़ामोशी  में की गई मोहब्बत  भी किसी से…

Continue Reading

“इश्क़ की मिश्री” पाँच कविताएँ – Shailism

1. "बारिश"  घर से निकलते ही, यादों की जोरों से बारिश होने लगी, छतरी मैंने साथ नहीं रखी थी, पूरा ही भीग गया, कुछ बूँदे मखमली चादर ओढ़े हुई थी  ,…

Continue Reading

“गोश्त”

अब आदत हो गई थी उसे, किवाड़ खुलने पर, अब वो सहमा नहीं करती थी, रात भर गोश्त के टुकड़े सी वो पड़ी रहती थी, कुत्ते आते और चाट जाते…

Continue Reading

” Feminist “

ज़ोर-ज़ोर से बातें कर रही है , शायद सच ही कह रही है आवाज़ जो इसकी इतनी ऊँची है, इसके माथे पर बड़ी सी बिंदी है, स्कॉर्फ़ पशमीना है शायद,…

Continue Reading
“दरवाज़े का सिपाही”
Labrador Puppy Head On in Black and White against a Black Background; Shutterstock ID 10488424; PO: aol; Job: production; Client: drone

“दरवाज़े का सिपाही”

बस कुछ रोटी के टुकड़े ही डाले थे उसे और वो मेरे दरवाज़े का सिपाही बन गया, अब घर से निकलते ही मेरे वो साथ कुछ दूर तक सड़क नापता…

Continue Reading
Close Menu