Author: Shailism

” केद इश्क़ “

इश्क़ बंद हो चला है, अब कीपैड की दुनिया में, स्क्रीन पर क़समें खाई जाती है, और इन्बाक्स में दिल धड़कते हैं, फूल भी खिलते हैं वँहा, अब सुबह स्याम…
Read More

Ek Din

जो धूल पैरों पर है लगी तेरे, वो जानती है, तू उसे ज़मीन बना देगा, इतनी आग है तुझमें, कि एक दिन, तू असमां पिघला उस पर बरसा देगा।
Read More

पापा (Father)

नीला फ़्रॉक बसता पहने, मैं रोती-रोती  घर पहुँची, घुटना छिल चुका था मेरा, दरवाज़ा खोल आवाज़ मैंने दी, पापा-पापा देखो मैं गिर पड़ी, प्रत्युत्तर में ख़ामोशी थी, खारी बूँदे अब…
Read More

“Buri Adaat”

ना जाने क्यों इन इंसानी नज़दीकियों से, जल्द ऊब जाता हूँ मैं, शायद यह आदत बुरी है मेरी, यह जान कर भी मैं, इसे बदलना नहीं चाहता, शायद खुदा मैं…
Read More

“Grandpaa’s Cupboard”

एक अलमरी थी, एक बूढ़े बाबा की पुरानी सी, मकान के एक कमरे में, वो सजी हुई रखी थी, पहली तनखा की वो कहानी थी... कभी वो जवान हुआ करती…
Read More

“कठपुतलिया”

कुछ कठपुतलिया थी वँहा, रंगीन कपड़ों से सजी थी, मगर किसी की उँगलियों से वो बंधी थी, कुछ बेजान सी थी, तो कुछ सांस ले रही थी...
Read More

“Warrior”

In the may of 2012, at only 27, I was diagnosed with ductal carcinoma i.e. breast cancer. My prognosis included first a surgery followed by 6 cycles of chemotherapy, 31…
Read More

“झूलता वक़्त”

अक्सर देखा है वक़्त को झूलते हुए मैंने, कभी दीवार पर तो कभी धागों का सहारा लिए बाजार में, पर समझ नहीं आता की जो झूल रहा है वो वक़्त…
Read More

“Yatra”

पेड़ों की गुफा में, आधी छांव आधी धुप से, गुजरता वो बंजारा, कभी तो कंही पहुंचेगा...
Read More