“तड़प”

वो जो तड़प रही है,
रूह है तेरी,
तू जिस्म को,
सहला रहा है,
नादान है क्या?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *