ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
“जड़े”

“जड़े”

उसने ‘ज़मीन’ साफ़ कर खुद के माकन और दीवारे बनाली,
बिना सोचे ये की एक जान अब भी जमी है उसी ज़मीन में,
उस जान ने भी ज़िंदा रहने अपनी जड़े उनके पत्थरों की दीवार में गड़ा दी,
कुछ दर्रारे भी हो गई है अब उसके माकन में,
वो दोष फिर भी उसकी जड़ों को देता है कहता है ज़मीन हमारी है,
वो जान मुस्कुराता है, उसकी बात सुन याद करता है उन बरसों को,
जब यह माकन बनाने वाले के पिता बचपन में उसकी दंगल पर बैठ डूबता उगता सूरज देखा करते थे…

Leave a Reply

Close Menu
%d bloggers like this: