ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

सूर्यपुत्र कर्ण का अंतिम दान – महाभारत

“अरे !! कोई दानवीर इस धरती पर बचा है क्या ?” कपकपाता हुआ एक स्वर शांत वातावरण को चिरता हुआ कँही से आया। सबने एक दम से मुख मोड़ा। एक…

Continue Reading

“इश्क़ की मिश्री” पाँच कविताएँ – Shailism

1. "बारिश"  घर से निकलते ही, यादों की जोरों से बारिश होने लगी, छतरी मैंने साथ नहीं रखी थी, पूरा ही भीग गया, कुछ बूँदे मखमली चादर ओढ़े हुई थी  ,…

Continue Reading

कलियुग के अंत के बाद संसार और मनुष्य का क्या होगा ?- श्री हनुमान की कथा

शास्त्रों के अनुसार चार युग होते हैं। जिसमें अंतिम युग कलियुग है और कलियुग की समाप्ति के बाद फिर से सतयुग का आगमन होता है।मतलब संसार की समाप्ति होगी और…

Continue Reading
श्री गणेश का वाहन मूषक क्यों है? (गणेश चतुर्थी)
http://www.pictorem.com/8799/GANAPATHY%20MURAL.html

श्री गणेश का वाहन मूषक क्यों है? (गणेश चतुर्थी)

संसार में शायद ही ऐसा कोई शिव मंदिर होगा जँहा नंदी जो कि शिव के वाहन भी है और उनके गण के अध्यक्ष भी की मूर्ति ना हो। उसी तरह…

Continue Reading
दानवीर-लघु कथा
Painting by R Aziz

दानवीर-लघु कथा

लघु कथा by Shailism  भरी धूप का वक़्त था। एक कच्ची सड़क के किनारे एक पेड़ की छांव में एक आदमी बैठा था। उसने सर पर एक मटमेला कपड़ा बाँध…

Continue Reading

श्री विष्णु को नारदमुनि ने क्यों श्राप दिया?-शिव पुराण

एक समय की बात है,  भगवान विष्णु के भक्त नारदजी, जो ब्रह्माजी के पुत्र है। उन्होंने तपस्या करने का मन बनाया। तपस्या के लिए उन्होंने कैलाश पर्वत पर गंगा नदी के…

Continue Reading
दुर्योधन को श्री कृष्ण ने बताया युद्ध विजयी होने का रहस्य- महाभारत कथा
molee art

दुर्योधन को श्री कृष्ण ने बताया युद्ध विजयी होने का रहस्य- महाभारत कथा

महाभारत का युद्ध समाप्त हो चुका था। दुर्योधन (सूर्योधन) मृत्यु संया पर लेटा हुआ था। उसने श्री कृष्ण को अपने समीप आते हुए देखा। दुर्योधन को क्रोध तो नहीं आया…

Continue Reading
“पांडवों के अलावा ‘द्रौपदी’ के मन में कोई और था – महाभारत कथा”
राजा रवि वर्मा पेंटिंग

“पांडवों के अलावा ‘द्रौपदी’ के मन में कोई और था – महाभारत कथा”

द्रौपदी की यह कथा "महाभारत" काल में उन दिनो की है जब वह पांडवों के साथ तेरह वर्षों का निर्वासन व्यतीत कर रही थी। बारह वर्षों का वनवास और एक…

Continue Reading
Close Menu