ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥
भगत सिंह- एक क्रांतिकारी कवि की जेल डायरी
Art by https://www.instagram.com/jay_kullar/

भगत सिंह- एक क्रांतिकारी कवि की जेल डायरी

19 साल की उम्र में ही उसकी शादी तय हो गई थी। किंतु उसने यह बोल कर घर छोड़ दिया कि “आज़ादी ही उसकी दुल्हन है।” और देश की आज़ादी…

Continue Reading

मैं नास्तिक क्यों हूँ – भगत सिंह

स्वतन्त्रता सेनानी बाबा रणधीर सिंह 1930-31के बीच लाहौर के सेन्ट्रल जेल में कैद थे। वे एक धार्मिक व्यक्ति थे जिन्हें यह जान कर बहुत कष्ट हुआ कि भगतसिंह का ईश्वर…

Continue Reading

यक्ष के प्रश्न और युधिष्ठिर के उत्तर-महाभारत कथा

युधिष्ठिर और यक्ष कथा  पांडवों के वनवास के बारह वर्ष समाप्त होने वाले थे। इसके बाद एक वर्ष के अज्ञातवास की चिंता युधिष्ठिर को सता रही थी। इसी चिंता में…

Continue Reading
महाभारत का वह कुत्ता और पांडवों की अंतिम यात्रा
Illustrations from the Barddhaman edition of Mahabharata

महाभारत का वह कुत्ता और पांडवों की अंतिम यात्रा

महाभारत कथा श्री कृष्ण की मृत्यु और यदुवंशियों के नाश की जानकारी प्राप्त कर युधिष्ठिर को बहुत दुःख हुआ। पृथ्वी पर पांडवों का कर्तव्य भी पूरा हो चुका था।इसलिए महर्षि…

Continue Reading
मंदिर-मस्जिद और रेत का मकान
By Arshad Mohsin

मंदिर-मस्जिद और रेत का मकान

* रेत का मकान वो बच्चा रेत का मकान बनाता  समुन्दर आता और उसे तोड़ जाता,  यह शिलशिला यूँही चलता रहा  मकान बनता और बिगड़ता रहा , मगर कुछ वक़्त बाद बच्चा…

Continue Reading

बीच की दीवार – कविता

दो बच्चे माटी में खेल रहे थे, एक ने मिट्टी का मंदिर  तो दूसरे ने मस्जिद बनाया , फिर दोनो के बीच में  एक दीवार भी उठाया,  एक ने श्री राम का…

Continue Reading
Close Menu